03 December, 2014

अब   शांत  भी  हो  जाओ  ,
लगता  है  , सदियों  से ..
कुछ  बके जा  रहे  हो  ,
क्यों , 
बस  रो ना  पदो  ,
इसलिए  हसे  जा  रहे हो  !




किस  किस  से  मिलते हो , 
महफ़िलों  में  जाते  हो  
बड़ी  शिद्दत  के  साथ  ,
कभी  एक  मेहफिल  खुद  सजाओ 
और  बस  खुद  को  ही  बुलाओ  
भीड़  से  फुर्सत  मिले  ,
तो  कभी  खुद  से  भी  मिल  जाओ  !


फ़क़ीरी  सबको  नहीं  आती  ,माना 
पर आखिर  में  सब  हैं  फ़क़ीर  ही  , मान  जाओ  !

No comments:

Post a Comment